बलिया में पत्रकार को धमकी देना पड़ा महंगा, पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेजा

हल्दी(बलिया) :- ( संदीप सिंह ) हल्दी थाना क्षेत्र के ग्रामसभा गायघाट में 10 वर्ष पुराने जमीनी विवाद को लेकर गाँव के दंबगों ने स्थानीय पत्रकार को जान से मारने की धमकी देने का मामला प्रकाश में आया है। इसको लेकर सोमवार को ग्रामीण पत्रकार एसोसिएशन ने हल्दी थाने में पहुंचकर तहरीर दिया तथा तत्काल आरोपी की गिरफ्तारी की मांग की। पुलिस ने त्वरित कार्यवाही करते हुए आरोपी को गिरफ्तार कर संबंधित धाराओं में चालान कर जेल भेज दिया।
हल्दी थाना क्षेत्र के गायघाट निवासी पत्रकार राजेन्द्र प्रसाद श्रीवास्तव पुत्र स्व मदन मोहन लाल तथा ददन यादव पुत्र स्व राम सेवक यादव के बीच 10 वर्षो से जमीनी विवाद चल रहा था जो आज भी न्यायालय में विचाराधीन है, तथा उस जमीन पर कोर्ट का स्थगन आदेश भी है। राजेन्द्र ने इलाकाई थाने हल्दी में शिकायती पत्र देकर आरोप लगाया है कि कई दिनों से गायघाट निवासी ददन यादव, मुद्रिका सिंह पुत्र रघुनाथ सिंह अन्य तीन अज्ञात लोगो के साथ मेरे दरवाजे पर आकर मुकदमा वापस लेने का कई दिनों से दबाव बना रहे है। तथा कहा कि मुकदमा वापस नहीं लिया तो जान से मार देगें। जिसकी जानकारी ग्रामीण पत्रकार एसोसिएशन बलिया को होने पर सोमवार के दिन सभी पत्रकारो ने थाने पहुंच कर मुकदमा दर्ज करा तत्काल आरोपी को गिरफ्तार करने की मांग की। जिस पर थानाध्यक्ष हल्दी रवीन्द्र नाथ राय ने त्वरित कार्यवाही करते हुए ददन यादव तथा मुद्रिका सिंह को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। इस मौके पर जिलाध्यक्ष शशिकांत मिश्रा, नगर तहसील अध्यक्ष श्याम प्रकाश शर्मा, बैरिया तहसील अध्यक्ष सुधीर सिंह,भानु प्रताप सिंह, सुनील द्विवेदी, संजय सिंह, अजय पान्डेय, अतीश उपाध्याय, शिवदयाल पान्डेय फौजी, विश्वनाथ तिवारी, अयोध्या प्रसाद, रवीन्द्र मिश्रा, संदीप सिंह, अर्जुन साह, अनिल सिंह, आनंद मोहन आदि रहे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

जेटली का पेट्रोल-डीजल पर शुल्क कटौती से इनकार, लोगों से कहा- ईमानदारी से करें कर का भुगतान  – Punjab Kesari (पंजाब केसरी)..

केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने पेट्रोल-डीजल पर उत्पाद शुल्क में कटौती की संभावना को आज एक तरह से खारिज करते हुये कहा कि इस तरह का कोई भी कदम नुकसानदायक हो सकता है। इसके साथ ही उन्होंने नागरिकों से कहा कि वे अपने हिस्से के करों का ‘ईमानदारी’ से भुगतान करें, जिससे पेट्रोलियम पदार्थों पर राजस्व के स्रोत के रूप में निर्भरता कम हो सके। एक फेसबुक पोस्ट में जेटली ने लिखा है, सिर्फ वेतनभोगी