‘रोहिंग्याओं के खिलाफ द्वेषपूर्ण बातें फैलाने के लिए फेसबुक जिम्मेदार’

जेनेवा। संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार विशेषज्ञों ने म्यांमार में रोहिंग्या मुसलमानों के खिलाफ द्वेषपूर्ण भाषण फैलाने में भूमिका निभाने के लिए फेसबुक को जिम्मेदार ठहराया। म्यांमार में संयुक्त राष्ट्र स्वतंत्र अंतर्राष्ट्रीय फैक्ट फाइंडिंग मिशन के अध्यक्ष मारजुकी डारुस्मन ने सोमवार को कहा कि म्यांमार में सोशल मीडिया मंच ने एक निर्धारक भूमिक अदा की।
रोहिंग्याओं
एबीसी ऑनलाइन ने डारुस्मन के हवाले से कहा, “जहां तक म्यांमार के हालात की बात है, सोशल मीडिया फेसबुक है और फेसबुक सोशल मीडिया है।”
यह भी पढ़ें :-नेपाल विमान हादसे में मरने वालों की संख्या 51 हुई, जांच समिति गठित
डारुस्मन ने कहा, “(सोशल मीडिया) उसने. कटुता, विरोधाभास और संघर्ष के स्तर को बढ़ाने में काफी योगदान दिया।”
म्यांमार में संयुक्त राष्ट्र की जांचकर्ता यांगही ली ने कहा, “म्यांमार में फेसबुक के जरिए सबकुछ किया गया। इसका उपयोग द्वेषपूर्ण भाषण फैलाने के लिए किया गया।”
उन्होंने कहा, “मुझे डर है कि फेसबुक अब एक जानवर में बदल चुका है और अपने मूल रास्ते से भटक चुका है।”
यह भी पढ़ें :-‘स्कॉर्पियन किंग’ हैं यहां के लोग, गांजा-भांग नहीं करता असर तो पीते हैं बिच्छू का जहर
ली जेनेवा में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में बोल रही थीं।
फेसबुक ने नए आरोपों पर तत्काल कोई टिप्पणी नहीं की है।
. ‘रोहिंग्याओं के खिलाफ द्वेषपूर्ण बातें फैलाने के लिए फेसबुक जिम्मेदार’ . | …..

( साभार  :-  एजेन्सी / संवाददाता  / अन्य न्यूज़ पोर्टल  )

ताजा खबरों के हिन्दी में अपडेट लगातार पाने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें, आप हमे ट्विटर पर भी फालो कर सकते है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

PM मोदी ने चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग से मुलाकात की

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) शिखर सम्मेलन से इतर यहां चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग से मुलाकात की और द्विपक्षीय सहयोग के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा की। इससे वुहान में उनकी पहली अनौपचारिक शिखर वार्ता के बाद संबंधों में आई गर्माहट को कायम रखने के दोनों देशों के प्रयास के संकेत मिलते हैं। दो नों नेताओं की बैठक चीन के शहर वुहान में अनौपचारिक बातचीत के करीब छह